Fact About Jubilee Park : जुबिली पार्क की खास बातें जो शायद ही आपको पता है

Jubilee Park Jamshedpur Unknown Fact.

कोरोना के कारण लगभग 1 साल से अधिक समय तक बंद रहने के बाद शहर की जान कहे जाने वाले जुबिली पार्क खुलने के बाद से ही सुर्खियों में छाया हुआ है। कभी पार्क में प्रवेश के लिए आईडी कार्ड तो कभी पार्क में वाहनों को प्रवेश की अनुमति नहीं देना चर्चा का विषय बना हुआ है। आइए पार्क के बारे कुछ खास बातें जानते है जो शायद ही आपको पता हो।


1. पार्क का नाम जुबिली पार्क क्यों रखा गया

Why was the park named Jubilee Park?
टाटा स्टील के 50 वर्ष पूरे होने के अवसर पर 3 मार्च 1958 को जुबिली पार्क का उद्धघाटन किया गया। चूंकि यह पार्क टाटा स्टील की गोल्डन जुबली के अवसर पर शहरवासियों को समर्पित किया गया इसलिए इस पार्क का नाम जुबिली पार्क रखा गया। जुबिली पार्क को 37.5 एकड़ में बनाया गया था। इसके मैसूर के वृंदावन गार्डन की तर्ज पर बनाया गया था।

2. देश के प्रथम प्रधानमंत्री ने किया उद्धघाटन

The country’s first PM Pandit Jawaharlal Nehru inaugurated Jubilee Park in 1958.
टाटा स्टील के 50 साल पूरा होने के अवसर पर देश के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू जमशेदपुर आये थे, उन्होंने ही जुबिली पार्क का उद्धघाटन किया था। इस दौरान उन्होंने कहा था कि-” विश्लेषण में, मुझे लगता है कि लोहे और स्टील की तुलना में पार्क और पेड़ अधिक महत्वपूर्ण हैं। फूल, पार्क और पेड़ कुछ ऐसा प्रदान करते हैं, जो मनुष्य के लिए अधिक महत्व रखते है लोहे और स्टील की तुलना में ।।(In the ultimate analysis, I imagine that parks and trees are more important than iron and steel. Flowers, parks and trees supply something which is, I imagine, of more basic importance to human beings and the human spirit than even iron and steel.)”

इस मौके पर उन्होंने पार्क में एक बरगद का पेड़ लगाया था जो आज भी स्मृति उद्यान में मौजूद है।

3. पंडित नेहरू कोट में लगाते थे जुबिली पार्क के गुलाब

Pandit Nehru used to put roses of Jubilee Park in the coat.
पंडित नेहरू गुलाब के शौकीन थे उनके लिए यहां अलग से रोज गार्डेन लगाया गया था। इस पार्क में एक हजार से अधिक किस्म के गुलाब लगाए गए थे। इस पार्क के गुलाब नेहरू जी के पास पहुंचाए जाते थे, जिसे वे अपने कोट में भी लगाते थे।

4. देश का पहला ज़ू जहां है अफ्रीकन मूल के बाघ

The country’s first zoo is where pure African-origin tigers.
जुबिली पार्क स्थित टाटा स्टील जूलॉजिकल पार्क देश का पहला ज़ू है जहाँ अफ्रीकन मूल (Pure Africian Origin) के बाघ मौके है। 5 बाघ शावकों को साल 2012 में अफ्रीका के प्रीटिरिआ स्थित नेशनल जूलॉजिकल गार्डन ने तौहफे में दिया था।

5. एकलौता पार्क जिसके बीच से गुजरती है रोड

The only park through which the road passes.
शायद ही कोई ऐसा पार्क और हो जिसके बीचोबीच से रोड गुजरती है और आमलोगों के इस्तेमाल की इजाज़त हो। इसको लेकर काफी विवाद भी हुआ और पार्क प्रबंधन द्वारा कुछ समय के लिए बंद कर दिया गया था। लेकिन भारी विरोध के बाद इसे खोल दिया गया।

6. म्यूजिकल फाउंटेन शो

Musical Fountain Show Jubilee Park.
जुबिली पार्क के रोज़ गार्डन, मुगल गार्डन और JN टाटा के प्रतिमा के पास साल 2012 में करोड़ों की लागत से म्यूजिकल फाउंटेन लगाया गया। हर सप्ताह मंगलवार, शनिवार और रविवार की शाम को रंग बिरंगे लेज़र लाइटों के साथ म्यूजिकल फाउंटेन शो दिखाया जाता है। प्रत्येक शो 15 मिनट का होता है।

Leave your comments