झारखंड में मिला मंकीपाक्स का संदिग्ध मरीज, हेमंत सोरेन के एक और करीबी पर ईडी का शिकंजा

1. अलीगढ़ में लड़कियों की तस्करी गैंग का पर्दाफाश

Girl trafficking gang busted in Aligarh.
अलीगढ़ में लड़कियों की तस्करी करने वाले गैंग का पर्दाफाश हुआ। पांच लोगों का यह गैंग नौकरी का झांसा देकर झारखंड से लड़कियों को लाता था और उन्हें अलीगढ़ में बेच देता था। पुलिस ने छापेमारी की और मौके से चार लड़कियों को बरामद किया। इसमें से तीन लड़कियां बेचने के लिए लाई गई थीं, जबकि एक गैंग की सदस्य है। खास बात यह है कि गैंग के सभी सदस्य मुस्लिम हैं और वे अपना हिंदू नाम रखकर हिंदू लड़कियों को शिकार बनाते थे।

2. झारखंड में मिला मंकीपाक्स का मरीज, सात वर्षीय बच्ची में दिखे लक्षण

Monkeypox patient found in Jharkhand, symptoms seen in seven year old girl.
झारखंड के गढ़वा शहर के टंडवा मोहल्ले की एक सात वर्षीय बालिका में मंकी पाक्स के लक्षण पाए गए हैं। बालिका को सदर अस्पताल के एक वार्ड में अगल रखकर इलाज किया जा रहा है। हालांकि स्वास्थ्य विभाग ने अभी तक मंकीपाक्स होने की पुष्टि नहीं की है। लेकिन बच्ची के शरीर में मंकीपाक्स से मिलते जुलते लक्षण होने की बात कही जा रही है। उसके शरीर पर छाले होने, दर्द व कई अन्य लक्षण बताए जा रहे हैं। 

3. हेमंत सोरेन के एक और करीबी पर ईडी का शिकंजा

ED screws up another close aide of Hemant Soren.
झारखंड में अवैध खनन घोटाले मामले में गिरफ्तार जेएमएम के वरिष्ठ नेता पंकज मिश्रा से पूछताछ के बाद अब प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के प्रेस सलाहकार अभिषेक प्रसाद उर्फ पिंटू को भी समन जारी किया गया। अभिषेक प्रसाद को समन कर 1 अगस्त को ईडी कार्यालय बुलाया गया है।

4. पूर्वी सिंहभूम जिले के 45 स्कूलों के पास नहीं है भवन

45 schools in East Singhbhum district do not have buildings.
2020 में कोविड के दौरान पूर्वी सिंहभूम के 45 स्कूलों के जर्जर भवन को तोड़कर धराशाई कर दिया गया, लेकिन भवन निर्माण को लेकर शिक्षा विभाग या जिला प्रशासन ने रुचि नहीं दिखाई।फलस्वरूप कहीं आंगनबाड़ी के एक कमरे में स्कूल चल रहा है, तो कहीं पेड़ के नीचे या झोपड़ी में पढ़ाई हो रही है। इसके सिवा कोई विकल्प भी नहीं है।

P.C- Dainik Jagran
5. प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे गरीब अभ्यर्थियों का खर्च उठाएगी झारखंड सरकार

Jharkhand government to bear expense of poor candidates preparing for competitive exam.
झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने मंगलवार को रांची में आयोजित एक समारोह में यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा 2021 में राज्य के सफल उम्मीदवारों को बधाई दी। साथ ही उन्होंने यह ऐलान किया कि, “राज्य सरकार राज्य के उन उम्मीदवारों की सारथी होगी जो किसी भी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करना चाहते हैं। जल्द ही राज्य में “मुख्यमंत्री सारथी” योजना शुरू की जाएगी। इस योजना का उद्देश्य यह है कि राज्य के सभी वर्गों से संबंधित उम्मीदवार, जो यूपीएससी, जेपीएससी सहित अन्य प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी के लिए कोचिंग आदि का खर्च वहन करने में असमर्थ हैं, उन्हें राज्य सरकार द्वारा सहायता प्रदान की जाएगी।”

Leave your comments